Nav Bar

Thursday, October 5, 2017

अफसाना


अठखेलियाँ करती हुई तुम्हारी यादों की बारिश की कुछ बूँदें
सहसहा टकरा गयी मेरे अंतरमन के किवाड़ों से
मैं एक पल पहले झूमती हुई सी बिखर गयी अगले पल में
बुदबुदाते हुए होठों से फिर मैंने नाम लिया तुम्हारा
और तुम्हारी तस्वीर को सीने से लगा बैठी
अतीत की परछाइयों में कुछ ऐसी खोयी मैं
की खुद की सुधबुध ही भूल बैठी
की तुम्हारा मेरा हाथ पकड़ कर सड़कों में साथ चलना
एक अपनेपन का एहसास करा देता था
तुम्हारे साथ सदियों को चंद लम्हों में बिता लेना
एक अजब सा जादू महसूस होता था तुम्हारी आवाज़ में
कुछ भी तो नहीं भूली हूँ मैं आज भी
वही तुम्हारी बेबाकी, मुझे मीठा सा छेड़ जाना
नजरें बचा कर मुझे इत्मीनान से पहरों तक देखना
नहीं हो साथ फिर भी साथ होने का यकीन दिलाना
मुझे याद है तुम्हारा हर पल को हसीं बनाना
तुम्हारे चले जाने के बाद से
ये घर भी मकान हो गया है
कुछ भूले भटके तुम्हारे लहज़े और सलीके
और कुछ तुम्हारे लौट आने की चरमरायी सी उम्मीदों की दीवारों पर
टिका हुआ है मेरे दिल का सुकून

- कमल पनेरू