Nav Bar

Wednesday, June 14, 2017

थोड़ा मुस्कुरा दो ना


क्यूँ शांत से बैठे हो आज
थोड़ा मुस्कुरा दो ना
दिन भर की थकान से टूट गया है ये बदन
ये थकान मिटा दो ना
अक्सर होते हैं तुम्हारी खामोशियों में किस्से हज़ार
मुझे आज वो किस्से दो चार सुना दो ना
ऐसा सन्नाटा पहले कभी दरमियान नहीं रहा
अपनी फिर से वो आवाज़ सुना दो ना
मुहब्बत नहीं होती किसी फ़कीर की दुआ की मोहताज़
तुमसे ही सीखा है मैंने
की तुम खिलखिला के हँस पड़ो फिर से
मुझे ये अंदाज़ सीखा दो ना
गज़ब का फासला आ खड़ा हुआ है दो पल के दौरान
नज़दीकियाँ कैसे होती हैं मेहरबान सीखा दो ना
आज दोस्तों में कुछ जिक्र सा हुआ था तुम्हारा
मैं सहसहा खिलखिला पड़ा था लाज से
तुमने बिताया कैसे दिन मेरे बगैर
चंद लब्ज़ों में ये बात बता दो ना
क्यूँ शांत से बैठे हो आज
थोड़ा मुस्कुरा दो ना
       
- कमल पनेरू